Diwali Kyu Manaya Jata Hai In Hindi:- दिवाली क्यों मनाई जाती है

By | October 22, 2021
Diwali Kyu Manaya Jata Hai In Hindi
0
(0)

Table of Contents

Why do we celebrate Diwali Festival in Hindi:-

हर साल दिवाली या दीपावली क्यों मनाई जाती है, महत्त्व व इतिहास

दिवाली 2021: अगर आप यह जानना चाहते हैं तो Diwali Kyu Manaya Jata Hai In Hindi Blog जरूर पढ़ें। दिवाली कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है।

Diwali kab hai 2021– इस साल दिवाली 4 नवंबर 2021 यानी गुरुवार को है. लेकिन क्या आप जानते हैं दिवाली क्यों मनाई जाती है? आखिर क्या है रोशनी के इस त्योहार रोशनी के त्योहार को मनाने के पीछे की वजह? अगर आप नहीं जानते हैं तो हम आपको बताएंगे कि दिवाली क्यों मनाई जाती है।

यह सबसे बड़ा और सबसे आकर्षक त्योहार है। Hindu, Muslim, Sikh, Christian-ईसाई सभी इस त्योहार को मनाते हैं, यहां धर्म का कोई restriction नहीं है। हिंदू धर्म की परंपरा के अनुसार, देश में देवी-देवताओं की पूजा करने या उन्हें याद करने के लिए कई त्योहार मनाए जाते हैं। जैसे Navratri Puja देवी दुर्गा की पूजा के लिए की जाती है। इसी तरह, भगवान राम की पूजा करने और उनकी याद में भारत में दिवाली का त्योहार बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। Diwali और दीपावली रोशनी और खुशियों का त्योहार है इसलिए बच्चे, बूढ़े, बड़े सभी मिलकर इस त्योहार को मनाते हैं।

Deepawali‘ शब्द का अर्थ है rows of lighted lamps। यह रोशनी का त्योहार है और हिंदू इसे खुशी के साथ मनाते हैं। इस त्योहार के दौरान, लोग अपने घरों और दुकानों को Diyas (पकी हुई मिट्टी से बने छोटे कप के आकार के तेल के दीपक) से रोशन करते हैं। वे कल्याण और समृद्धि के लिए भगवान गणेश और धन और ज्ञान के लिए देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं।

See also  40 Interesting facts about India

Diwali Kyu Manate Hai in Hindi

यह 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम की वापसी और राक्षस रावण पर उनकी जीत को mark करने के लिए मनाया जाता है। जब श्री राम अयोध्या वापस आए तो अयोध्यावासियों ने उनके आगमन पर उत्साह के साथ घी का दीपक जलाया। तब से लेकर आज तक पूरे भारत में Diwali हर साल बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है। भारत के कई हिस्सों में Deepawali लगातार पांच दिनों तक मनाई जाती है। हिंदू इसे जीवन का उत्सव मानते हैं और इस अवसर का उपयोग रिश्तों को मजबूत करने के लिए करते हैं। भारत के कुछ हिस्सों में, यह एक new year की शुरुआत का प्रतीक है। लोग त्योहार से पहले अपने घर की साफ-सफाई और सजावट करते हैं। वे फर्श पर रंगीन रंगोली कला का काम करते हैं।

Also Read-

इस दिन जब भगवान श्री राम वनवास से लौटे तो भगवान राम के अयोध्या लौटने की खुशी में Diwali का त्योहार मनाया जाता है। लेकिन Diwali मनाने के और भी कई कारण हैं। Diwali festival को लेकर समाज में कई मान्यताएं और परंपराएं प्रचलित हैं। इनमें से कुछ रीति-रिवाज और परंपराएं स्थानीय संस्कृति का हिस्सा हैं। लेकिन आज भी लोग उन पर विश्वास करते हैं।

लक्ष्मी देवी का जन्म- Birth of Lakshmi Devi

इस दिन मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था और उनका विवाह भी इसी दिन Lord Vishnu के साथ हुआ था। ऋषि मुनियों के द्वारा ऐसा माना जाता है कि कि हर साल हर कोई इन दोनों की शादी को अपने घरों को रोशन करके celebrates करता है.

सिखों के लिए खास दिन- Special day for Sikhs

इस दिन को Sikhism guru Amar Das ने लाल पत्र दिवस के रूप में स्थापित किया था, जिसके बाद इस दिन सभी सिखों को अपने गुरु का आशीर्वाद प्राप्त होता है। 1577 में दिवाली के दिन अमृतसर के Golden Temple की आधारशिला भी रखी गई थी।

पांडवों के वनवास के समापन के अवसर पर- 

Mahabharata के अनुसार, Pandavas ने एक खेल में अपना शाही महल खो दिया था और इस हार के लिए उन्हें 12 साल का वनवास भी दिया गया था। 12 साल बाद जब पांडव वनवास पूरा कर लौटे तो उनके चाहने वालों ने उनके आने पर अपने घरों में दीप जलाए। इसी खुशी में हर साल इसी दिन से Diwali का पर्व मनाया जाने लगा।

दीवाली का त्योहार कृष्ण और नरकासुर से जुड़ा हुआ है-

दिवाली के ठीक एक दिन पहले Krishna ने Narkarsur नामक राक्षस का वध किया था। दूसरे दिन इसी उपलक्ष्य में Diwali मनाई जाती है। जिसकी खुशी में सभी ने अपने घरों में दीपक जलाए। इसलिए हर साल इसी खुशी में पूरे भारत में दीपावली का पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

See also  What is Network Marketing In Hindi & Secret of Success:- नेटवर्क मार्केटिंग

फसलों का त्योहार –

यह त्योहार खरीफ की फसल-Kharif harvest के समय ही आता है और किसानों के लिए यह त्योहार समृद्धि का प्रतीक है और किसान इस त्योहार को उत्साह के साथ मनाते हैं।

महाकाली ने राक्षसों का वध किया था

Deepawali के दिन महाकाली ने राक्षसों का वध किया था। फिर जब उनका क्रोध शांत नहीं हुआ तो भगवान शिव स्वयं उनके चरणों में लेट गए। उन्हें देखकर महाकाली का क्रोध समाप्त हो गया। इसके बाद देवी के शांत स्वरूप लक्ष्मी की पूजा शुरू हुई। उसी रात उनके उग्र रूप काली की पूजा करने का भी विधान है। यह Deepawali का शुभ दिन है।

विक्रमादित्य का राज तिलक हुआ था

Deepawali के दिन गुप्त वंश के राजा Chandragupta Vikramaditya ने धर्म, गणित और ज्योतिष के महान विद्वानों को ‘Vikram Samvat‘ की स्थापना के लिए आमंत्रित किया था और मुहूर्त निकाल लिया था। इसके बाद लोगों ने दीप जलाकर जश्न मनाया।

Importance of Diwali

  • Diwali हिंदू धर्म के citizens के लिए मनाया जाने वाला एक बड़ा त्योहार है, क्योंकि यह त्योहार धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज तक चलता है। Deepawali का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। और यह दिन लोगों को याद दिलाता है कि सत्य और अच्छाई की हमेशा जीत होती है।
  • इस दिन Goddess Lakshmi की पूजा का बहुत महत्व होता है और माना जाता है कि अगर इस दिन सच्चे मन से मां की पूजा की जाए तो घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है.
  • इस दिन सभी लोग परिवार सहित दीये जलाते हैं और जो लोग अपने घरों से दूर होते हैं वे अपने घरों में आते हैं और अपने परिवार के साथ खुशियां मनाते हैं।
  • मान्यताओं के अनुसार इस दिन पटाखों को फोड़ना शुभ होता है और इनकी आवाज पृथ्वी पर रहने वाले लोगों की खुशी को दर्शाती है, जिससे देवताओं को उनकी विपुल स्थिति का पता चल जाता है।

Deepawali पर पूजा के लिए जरूरी सामग्री-

Generally दिवाली पर पूजा करने के लिए जरूरी सामग्री घरों में आसानी से मिल जाती है, इसके अलावा कुछ चीजें ऐसी भी हैं जो आपने बाजार से जरूर खरीदी होंगी।

लक्ष्मी, सरस्वती और गणेश जी की तस्वीर या मूर्ति, शहद, दही, गंगाजल, गुड़, धनिया, फल, फूल, जौ, गेहूं, दूर्वा, चंदन, सिंदूर, घी, पंचामृत, रोली, कुमकुम, कलश, कमल की माला, चावल , सुपारी, सुपारी, लौंग, इलायची, धूप, कपूर, अगरबत्ती, मिट्टी और तांबे के दीये, रूई, कलावा (मौली), नारियल, दूध, सूखे मेवे, दूध, बताशे, गंगाजल, यज्ञोपवीत (जनेऊ), सफेद वस्त्र , इत्र, चौकी, शंख, आसन, थाली, चांदी का सिक्का, और अंत में देवताओं को प्रसाद चढ़ाने के लिए एक बर्तन की आवश्यकता होती है।

See also  Why do we celebrate Karva Chauth: पौराणिक इतिहास, पूजन विधि, महत्व, कथा, मंत्र

दिवाली लक्ष्मी पूजा विधि

  • सबसे पहले देवी लक्ष्मी और गणेशजी की मूर्तियों को आसन पर रखें। ध्यान रहे कि इनका मुख पूर्व या पश्चिम की ओर हो और लक्ष्मीजी की मूर्ति गणेश जी की दाहिनी ओर हो।
  • चावल पर कलश को लक्ष्मीजी के पास रखें। नारियल को लाल कपड़े में लपेटकर कलश पर रखें। यह कलश वरुण का प्रतीक है।
  • एक दीपक को घी से और दूसरे को तेल से भरकर एक दीपक को चौकी के दाहिनी ओर और दूसरे को लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियों के चरणों में रखें।
  • लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियों से सजाई गई चौकी के सामने एक और चौकी लगाएं और उस पर लाल कपड़ा बिछाएं। उस लाल कपड़े पर चावल से नवग्रह बनाएं। इसके साथ ही रोली से स्वस्तिक और ओम का चिन्ह बनाएं।
  • पूजा करने के लिए उत्तर या पूर्व की ओर मुख करके बैठें।
  • इसके बाद प्रदोष काल में ही मां लक्ष्मी की पूजा करें। मां की स्तुति और पूजा करने के बाद दीपक का दान भी करना चाहिए।
  • लक्ष्मी पूजा के समय लक्ष्मी मंत्र का जाप करते रहें- Om श्रीं ह्रीं श्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नमः
  • इसके बाद आपको पृथ्वी माता को प्रणाम करते हुए तथा क्षमा प्रार्थना करते हुए निम्न मंत्र निम्नलिखित मंत्र पृथ्विति मंत्रस्य मेरुपृष्ठः ग ऋषिः सुतलं छन्दः कूर्मोदेवता आसने विनियोगः॥
  • ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता। त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम्‌॥ पृथिव्यै नमः आधारशक्तये नमः का जाप करते हुए अपना स्थान ग्रहण करना होगा।
  • इसके उपरांत आपको ॐ केशवाय नमः, ॐ नारायणाय नमः, ॐ माधवाय नमः” मंत्र का कहते हुए गंगाजल का आचमन करना है।
  • इस तरह आप Deepawali पर महालक्ष्मी की कृपा पाने के लिए पूजा करने से उचित फल प्राप्त कर सकते हैं।

दीपावली शुभ मुहूर्त- Diwali Auspicious Time

शुभ दीपावली तिथि – 04 नवंंबर 2021, गुरुवार

लक्ष्मी पूजा  मुहूर्त- 18 बजकर 10 मिनट से 20 बजकर 06 मिनट तक

प्रदोष काल- 17:34 से 20:10 तक

वृषभ काल- 18:10 से 20:06 तक

अमावस्या तिथि आरंभ- सुबह 06 बजकर 03 मिनट (04 नवंबर 2021) से

अमावस्या तिथि समाप्त- रात्रि 02 बजकर 44 मिनट (05 नवंबर 2021) तक

 

अगर आपको हमारा यह BLOG – Diwali Kyu Manaya Jata Hai In Hindi में पसंद आया हो तो आपसे अनुरोध है कि इसे अपने दोस्तों और परिवार के साथ ज्यादा से ज्यादा share करें साथ ही इस लेख को सोशल मीडिया में शेयर करें ताकि यह जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सके। हिंदी में अन्य जानकारीपूर्ण information के लिए आप www.countingflybeast.com पर जा सकते हैं।

 

 

 

 

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए स्टार पर क्लिक करें!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

जैसा कि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगी...

Follow us on social media!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

आइए इस पोस्ट को सुधारें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *