Mon. Feb 6th, 2023
Kya Bukhar Me Chawal Khana Chahiye
0
()

Kya Bukhar Me Chawal Khana Chahiye: क्या आप उन चावल प्रेमियों में से एक हैं? जो सोचते हैं कि स्वस्थ भोजन के लिए चावल से बेहतर कुछ नहीं है। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि ज्यादातर भारतीयों का खाना चावल के बिना अधूरा होता है। प्रकृति की अच्छाइयों से भरपूर, चावल फाइबर, विटामिन डी, विटामिन बी, थायमिन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और आयरन जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इन सबके अलावा यह पचने में आसान होता है। इसमें अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में कम वसा और अच्छा कोलेस्ट्रॉल होता है। (Should Not Eat Rice During Fever)

मौसम बदलते ही व्यक्ति को बुखार की समस्या होने लगती है। किसी को कम तो किसी को ज्यादा परेशानी होती है। अक्सर हमें बुखार होने पर डॉक्टर के पास जाते हैं और दवाइयां भी लेते हैं। लेकिन अस्पताल में इतने मरीज होने के कारण डॉक्टर हमें यह नहीं बताते कि बीमार होने पर हमें क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। बीमारी कोई भी हो, बड़ी हो या छोटी, हमें इससे सावधान रहना बहुत जरूरी है। जब तक हम सावधान नहीं होंगे, बुखार हमें इतनी जल्दी नहीं छोड़ेगा।

वैसे तो ज्यादातर बुखार में भूख भी नहीं लगती है जिससे बुखार कम होने का नाम नहीं लेता है। जब तक हम कुछ नहीं खाएंगे तब तक शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता नहीं बढ़ेगी और बुखार भी नहीं सुधरेगा। ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि बुखार में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए।

Kya Bukhar Me Chawal Khana Chahiye? (क्या बुखार में चावल खाना चाहिए)

भारत में लोग चावल खाना बहुत पसंद करते हैं। कई घरों में रोज गुलाब के फूल बनाए जाते हैं। कई बार आपने सुना होगा कि सर्दी-खांसी या बुखार होने पर चावल का सेवन नहीं करना चाहिए। बीमारी के समय इसे खाने के लिए कहा जाता है। ठंड के मौसम में भी लोग चावल खाने से परहेज करते हैं, क्योंकि इससे सर्दी-जुकाम होने की संभावना रहती है।

हमारे शरीर में पाइरोजेन्स (pyrogens) की उपस्थिति बुखार का मुख्य कारण है। पाइरोजेन्स हमारे मस्तिष्क में रक्त के माध्यम से हमारे हाइपोथैलेमस तक पहुँचते हैं, Hypothalamus जो हमारे शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है और इसमें पाइरोजेन्स की उपस्थिति तापमान नियंत्रण कार्य में बाधा डालती है। इससे शरीर का तापमान बढ़ जाता है।

Why We Should Not Eat Rice During Fever (बुखार में चावल क्यों नहीं खाना चाहिए)

यह भी माना जाता है कि अच्छे बैक्टीरिया के मरने से शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है, जिससे कई बार किसी तरह की बीमारी में खाना बंद नहीं करना चाइये। बुखार के दौरान हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण शरीर किसी भी बाहरी जीव के हमले से लड़ने में व्यस्त हो जाता है और हमें भूख-प्यास लगना बंद हो जाती है। आपको भूख लगे या न लगे, बुखार होने पर आपको जरूर खाना चाहिए।

भोजन के साथ-साथ व्यक्ति को तरल पदार्थ जैसे जूस, सूप आदि भी लेने चाहिए। तरल पदार्थों का सेवन करने से शरीर से पानी की कमी नहीं होती और यह आपके शरीर में मौजूद पदार्थों को बाहर निकाल देता है। तापमान बढ़ने के कारण शरीर में पानी की कमी हो जाती है क्योंकि पानी को तरल रूप में लेना चाहिए।

बुखार में क्या खाएं और क्या ना खाएं? (Kya Bukhar Me Chawal Khana Chahiye)

बुखार के समय प्रोटीन युक्त भोजन करना चाहिए साथ ही विटामिन और मिनरल्स का भी ध्यान रखना चाहिए। प्रोटीन का काम नई कोशिकाओं का निर्माण करना होता है और चूंकि बुखार के दौरान शरीर नई कोशिकाओं का निर्माण बंद कर देता है और प्रोटीन की उपस्थिति इस प्रक्रिया को वापस सही दिशा में ले जाती है। इसलिए बीमारी कैसी भी हो खाना कभी नहीं छोड़ना चाहिए।

See also  How to Stop Overthinking

अगर जानना चाहते हैं कि बुखार होने पर क्या खाना चाहिए, आइए विस्तार से जानते हैं।

ज्यादा पानी पीना चाइये

बीमार होने पर शरीर में बैक्टीरिया ज्यादा हो जाते हैं, जिसके लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीना बहुत जरूरी है। ज्यादा पानी पीने से ब्लड सेल्स की संख्या बढ़ती है और वे बेहतर तरीके से काम करते हैं। इसके अलावा शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं साथ ही शरीर में डिहाइड्रेशन का खतरा भी नहीं रहता है।

बुखार के समय पानी कम पीने से बैक्टीरिया शरीर पर अधिक प्रभावी हो जाते हैं इसलिए अधिक पानी पीने से ये शरीर पर फैलना बंद कर देते हैं और शरीर की क्रिया द्वारा पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाते हैं।

बुखार में अधिक फल खाएं

बुखार में ज्यादातर उल्टी, पसीना, दस्त, बदन दर्द, सिर दर्द की समस्या रहती है, जिसके लिए फलों का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। ताजे फलों में आप संतरा, तरबूज, पपीता, केला, कीवी, सेब जैसे फल खा सकते हैं। ये फल विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। आप चाहें तो इन फलों का जूस भी पी सकते हैं।

हरी सब्जियां खाएं

बुखार में वही चीजें खानी चाहिए जो शरीर को ताकत दें, इसके लिए हरी सब्जियां खाना बहुत फायदेमंद होता है। हरी सब्जियों में आप पालक, मेथी, टमाटर, शिमला मिर्च, भिंडी खा सकते हैं. आप चाहें तो वेजिटेरियन सूप भी पी सकते हैं। हरी सब्जियां विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती हैं जो शरीर को नई ऊर्जा देती हैं।

दलिया खाना चाइये

बुखार में जितना हो सके तारावती भोजन करें क्योंकि भारी भोजन करने का मन भी नहीं करता है। वैसे भी दलिया में बहुत ताकत होती है, यह प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर होता है जो हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। इसके अलावा आप पतली नमकीन खिचड़ी भी खा सकते हैं।

मूंग की दाल खाइये

मूंग की दाल कई बीमारियों को जड़ से खत्म करने में मदद करती है और बुखार होने पर यह अमृत के समान काम करती है। इसे आप हल्के गाढ़े सूप की तरह बनाकर पी सकते हैं, आप चाहें तो इसे रोटी के साथ भी खा सकते हैं. यह ज्वर में उत्तम आहार है।

चिकन सूप पिएं

बीमारी से पीड़ित व्यक्ति के लिए चिकन सूप पीना बहुत फायदेमंद होता है। चिकन सूप पीने से बुखार के बैक्टीरिया जल्दी नष्ट होते हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। आप चाहें तो चिकन खाने की बजाय इसका सूप ही पिएं, तो बेहतर है।

प्रोटीन युक्त भोजन करें

बुखार दूर करने के लिए प्रोटीन युक्त भोजन सबसे अच्छा आहार है। ऐसा करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। इसके लिए आप दूध, दही, अंडे ले सकते हैं। क्‍योंकि इनमें प्रोटीन अच्‍छी मात्रा में पाया जाता है। ये शरीर में वाइट ब्लड सेल्स को बढ़ाने में मदद करते हैं।

बुखार में क्या नहीं खाना चाहिए (Should Not Eat Rice During Fever)

बुखार में क्या खाना चाहिए यह हम आपको ऊपर बता चुके हैं तो अब हम आपको बताने जा रहे हैं कि बुखार होने पर क्या नहीं खाना चाहिए। बुखार होने पर कई ऐसी खाने की चीजें होती हैं जिन्हें हमें नहीं खाना चाहिए जिससे हमारा बुखार जल्द से जल्द ठीक हो सके।

संक्रमित भोजन खाने से बचें

बुखार एक ऐसा संक्रमण है जिसमें कई हानिकारक बैक्टीरिया हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं। अब यह बहुत जरूरी है कि इस संक्रमण पर ठीक से रोक लगाई जाए। जब भी आप फल खाएं तो उन्हें अच्छी तरह धोकर खाएं, एक बार कटे हुए फल को उसी समय खाना चाहिए क्योंकि कटे हुए फल पर ज्यादा बैक्टीरिया आकर बैठ जाते हैं। बंसी खाना खाने से बचें।

See also  Dulcoflex 5mg Tablet Uses in Hindi:- डल्कोफ्लेक्स उपयोग, नुकसान, खुराक, सावधानी, कीमत, काम की जानकारी

बुखार में जंक फूड न खाएं

बुखार में जंक फूड का सेवन कभी नहीं करना चाहिए। आजकल ज्यादातर बीमारियों की जड़ यही जंक फूड हैं। मोटापे से लेकर बड़ी बीमारियों को बढ़ावा देने में जंक फूड्स सबसे आगे हैं. जंक फूड के अलावा आपको कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन भी बंद कर देना चाहिए।

बुखार में चाय न पियें

बुखार में चाय नहीं पीनी चाहिए क्योंकि इसमें काफी मात्रा में कैफीन होता है जो जहर की तरह अटैक करता है। यह दवा के प्रभाव को कम करता है। अगर आप चाय पीना चाहते हैं तो आपको तुलसी की चाय, काली चाय या अदरक की चाय पीनी चाहिए। यह आपको पीने में थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन यह साधारण चाय से कहीं ज्यादा फायदेमंद है।

शराब से बचें

शराब, बियर पीना सेहत के लिए हानिकारक होता है, अगर आप शराब पीते भी हैं तो बुखार के समय इसे कभी न पियें। यह शरीर के तापमान में बदलाव लाता है जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है और शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है।

बुखार के विभिन्न प्रकार में चावल की भूमिका (Role of rice in different types of fever)

मलेरिया बुखार (Malaria Fever)

इस प्रकार के बुखार में पीड़ित व्यक्ति को सर्दी, कंपकंपी, शरीर में पानी की कमी, सुस्ती जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। मलेरिया का बुखार मादा मच्छर के काटने से होता है, बुखार के कारण शरीर का तापमान बढ़ने से शरीर की ऊर्जा समाप्त हो जाती है। और ऐसे में हमें हमेशा हाई कैलोरी फूड को प्राथमिकता देनी चाहिए।

उसकी डाइट में गन्ने का जूस, इलेक्ट्रॉल वॉटर जैसे ड्रिंक्स शामिल होने चाहिए, ताकि उसे कमजोरी महसूस न हो। मलेरिया बुखार आमतौर पर आपके लीवर, किडनी और पाचन तंत्र को प्रभावित करता है। कई बार प्रोटीन के साथ कार्बोहाइड्रेट की मौजूदगी से नई कोशिकाओं का बनना आसान हो जाता है। मलेरिया रोगी को सूप, मछली, अंडे, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, दूध, चावल का पानी आदि देना चाहिए।

सर्दी के कारण बुखार (Cold Fever)

बुखार आने के कई कारण हो सकते हैं और जब हमें जुकाम होता है तो शरीर का तापमान अपने आप बढ़ने लगता है और ऐसे में शरीर का खास ध्यान रखना चाहिए। चावल में ठंडक देने वाले गुण होते हैं इसलिए रोगी को बासी या बासी चावल के स्थान पर ताजा बना हुआ चावल देना चाहिए। कई बार शरीर में कार्बोहाइड्रेट और शुगर की मौजूदगी बैक्टीरिया को बढ़ावा देती है, इसलिए डॉक्टर इसे खासतौर पर रात में न खाने की सलाह देते हैं। लेकिन ऐसा बहुत कम होता है जब डॉक्टर इसे न खाने की सलाह देते हैं।

लेकिन हमारी इम्युनिटी और जिस जलवायु में हम रहते हैं, उसे न खाने की सलाह देते हैं। इसलिए डॉक्टर सर्दी के साथ-साथ किसी भी प्रकार के गले के संक्रमण की स्थिति में चावल, दही, मसालेदार भोजन, केला आदि से परहेज करने की सलाह देते हैं।

वायरल बुखार (Viral fever)

जैसा कि हम पहले ही जान चुके हैं कि बुखार अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, यह आमतौर पर किसी संक्रमण के कारण होता है और इसके कारण हमारे शरीर का तापमान तेजी से बढ़ने लगता है। किसी भी प्रकार के बुखार में आसानी से पचने वाला भोजन ही करें।

शरीर का तापमान बढ़ने के कारण शरीर में पानी की कमी भी हो सकती है, इसलिए जितना हो सके तरल पदार्थ जैसे नारियल पानी, सूप, जूस, सुपाच्य भोजन जैसे खिचड़ी आदि देना चाहिए। मौसमी बुखार में तैलीय और मसालेदार भोजन से परहेज करना चाहिए और चावल आसानी से खा सकते हैं। आमतौर पर डॉक्टर पहले आपके बुखार के कारण का विश्लेषण करते हैं, फिर कभी-कभी कुछ खाने की आदतों से बचने के लिए कहते हैं।

See also  Moje Pehen Ke Sone Ke Nuksan In Hindi: सर्दियों में पहनकर सोते हो मोज़े? जानिए मोजे पहनकर सोने के 5 बड़े नुकसान के बारे में!

टाइफाइड ज्वर (Typhoid Fever)

यह एक जीवाणु जनित रोग है, जिसके जीवाणु को ‘साल्मोनेला टाइफी’ के नाम से जाना जाता है। यह मुख्य रूप से संक्रमित भोजन या पानी के सेवन के कारण होता है। शरीर में प्रवेश करने के बाद बैक्टीरिया तेजी से बढ़ने लगते हैं। यदि समय पर या उचित तरीके से इलाज नहीं किया जाता है, तो व्यक्ति कई महीनों तक पीड़ित रह सकता है और यह काफी गंभीर हो जाता है।

टाइफाइड बुखार के दौरान साफ और उबला हुआ पानी पीना चाहिए। स्ट्रीट फूड, कच्ची सब्जियां, मसालेदार भोजन, तेल के साथ-साथ डिब्बाबंद भोजन से भी बचना चाहिए। इसके अलावा हर तरह का आसानी से पचने वाला खाना खाया जा सकता है, खासकर चावल और खिचड़ी खाई जा सकती है.

पीलिया बुखार (Jaundice Fever)

यह एक ऐसी बीमारी है, जिसमें लाल रक्त कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, जिससे रोगी के शरीर का रंग पीला पड़ जाता है। यह पीला पदार्थ बिलीरुबिन है, जो लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने पर निकलता है।

पीलिया के दौरान हमारा लिवर सबसे ज्यादा प्रभावित होता है और यह हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है जो विशेष रूप से पाचन को बढ़ावा देता है। इसलिए जब आपके शरीर का मुख्य अंग, जिसे मुख्य रूप से शरीर की ऊर्जा की खान कहा जाता है, खराब होने लगे तो रोगी को तरल पदार्थों का सेवन शुरू कर देना चाहिए और पौष्टिक आहार भी लेते रहना चाहिए। पीलिया से लड़ने का यह सबसे अच्छा तरीका है।

रोगी खट्टे फल, गन्ने का रस, टमाटर, चावल, खीरा आदि खा सकता है। अधिक चीनी और कैलोरी वाले भोजन से बचने का प्रयास करें। किसी भी प्रकार के डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, शराब, पनीर, डेयरी उत्पादों से दूर रहें। लेकिन चावल के लिए कोई पाबंदी नहीं है।

तथ्य

बुखार के और भी कई कारण हो सकते हैं जैसे निमोनिया, चिकन पॉक्स, चिकन पॉक्स, किसी तरह का यूरिनरी इंफेक्शन आदि। और हर बीमारी में चावल से परहेज जरूरी नहीं है। कई बार वे कुछ अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के कारण इसे खाने से मना कर देते हैं। लेकिन केवल बुखार में ही इसे न खाने जैसा कोई नियम नहीं है। बस इस बात का ध्यान रखें कि ताजा खाना खाने और खूब सारे तरल पदार्थ पीने से आपको तेजी से ठीक होने में मदद मिलेगी। मुझे आशा है कि आपको मेरा यह ब्लॉग Kya Bukhar Me Chawal Khana Chahiye पसंद आया होगा, इसे अपने दोस्तों, परिवार के साथ साझा करना न भूलें।

Kya Bukhar Me Chawal Khana Chahiye, Why We Should Not Eat Rice During Fever, Health Tips, बुखार होने पर चावल खाएं या नहीं, Should Not Eat Rice During Fever, why we should not eat rice during fever, should rice be avoided during fever, should i eat rice during fever, can you eat rice during fever, what we should not eat during fever, rice good for fever, should rice be avoided during cough, bukhar mein chawal kha sakte hain, bukhar me chawal khana chahiye, bukhar hone par kya khana chahiye, bukhar hone per kya khana chahie, Should Not Eat Rice During Fever,

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए स्टार पर क्लिक करें!

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

जैसा कि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगी...

Follow us on social media!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

आइए इस पोस्ट को सुधारें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

By Team Counting Flybeast

हमारी वेबसाइट में आपका स्वागत है, यह एक हिंदी वेबसाइट है जहाँ पर आपको हिंदी में हर तरह की जानकारी जैसे की Technology, Facts, Sarkari Yojana, Hindi Biography, Tips-Tricks, Health, Finance आदि उपलब्ध कराए जाएंगे और जो भी पोस्ट प्राप्त करेगा वह आपको अधिक से अधिक सही जानकारी के साथ मिल जाएगा ताकि आपको समझने में कोई परेशानी न हो और आप बेहतर हो जाएं आप समझ सकते हैं और आप जो भी सर्च करना चाहते हैं, इस वेबसाइट के नाम को अपने टॉपिक के नाम के साथ गूगल में डालने से आपको मिल जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *