Mon. Feb 6th, 2023
Lizard Amazing Facts In Hindi
0
()

Lizard Amazing Facts In Hindi: छिपकली की पूंछ कट जाने के बाद दोबारा कैसे बढ़ जाती है? जानिए इस जीव के बारे में रोचक बातें! छिपकली जिसे अंग्रेजी में lizard एक सरीसृप (Reptile) तथा निशाचर (सूर्यास्त के बाद सक्रिय होने वाला) प्राणी है। यह अपने पेट के बल रेंगता है। इनकी जीभ और नाक एक साथ स्थित होती है। इसी कारण यह अपने शिकार को पकड़ने से पहले जीभ निकालकर सूंघता है और फिर उसी जीभ से शिकार को पकड़ लेता है। डायनासोर उनके पूर्वज थे, जो एक विलुप्त प्रजाति हैं। कुछ छिपकलियों में रंग बदलने की क्षमता भी पाई जाती है, जिन्हें गिरगिट/उद्यान छिपकली भी कहा जाता है।

छिपकली की पूंछ यदि कट जाए तो दोबारा कैसे आ जाती है? If a lizard’s tail is cut off, how does it come back again?

छिपकली आमतौर पर हर घर में पाई जाती है। कई बार हमारी गलती का खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ता है। गलती से उन पर पांव रख देने या किसी चीज के दबाव में आने से उनकी पूंछ कट जाती है। लेकिन क्या आपने देखा है कि छिपकली की पूंछ कट जाने के बाद भी चलती रहती है। अगर आपने गौर किया होगा तो आपके मन में ये सवाल जरूर आया होगा कि ऐसा क्यों होता है?

छिपकली की पूंछ में पुनर्जनन की विशेष क्षमता होती है। जिससे उसकी पूंछ कट कर वापस आ जाती है। छिपकली की पूँछ काटने पर खून नहीं निकलता बल्कि खून का थक्का बन जाता है और पुनर्योजी कोशिकाएँ वहाँ आकर उभार बना लेती हैं और फिर पूँछ उसी जगह पर आ जाती है। इस प्रकार की पुनर्योजी क्षमता कुछ विशेष जीवों में भी पाई जाती है जैसे – ऑक्टोपस, हाइड्रा, प्लैनेरिया आदि।

छिपकली खुद भी पूंछ गिरा देती है, Lizards also drop their tails

बता दें कि ऐसा केवल दबाव पड़ने पर ही नहीं होता बल्कि छिपकली खुद भी अपनी पूंछ गिरा देती है। अब आप कहेंगे कि ऐसा कैसे हो सकता है। वास्तव में, छिपकलियों के पास कोई प्राकृतिक रक्षा हथियार नहीं होता है, इसलिए जब उनका सामना अपने से बड़े शिकारी से होता है, तो वे अपनी पूंछ गिरा देते हैं। वह ऐसा इसलिए करती है ताकि शिकारी का ध्यान भटक जाए और समय देखकर वह भाग सके।

वापस आती है और पूंछ खा जाती है– हालाँकि, पूंछ को गिराते समय उसकी बहुत सारी ऊर्जा नष्ट हो जाती है। ऐसे में कई बार छिपकली वापस आकर अपनी ही पूंछ खा जाती है। ताकि उसे जल्द से जल्द खोई हुई ऊर्जा मिल सके। बता दें कि छिपकली की पूंछ में काफी मात्रा में फैट जमा होता है।

छिपकली की पूंछ यदि कट जाए तो दोबारा कैसे आ जाती है इसका वैज्ञानिक कारण- Scientific reason for how a lizard’s tail comes back if it is cut off.

जीव विज्ञान में इसे ऑटोटॉमी या सेल्फ एम्प्यूटेशन कहा जाता है। यह न केवल छिपकलियों में बल्कि अन्य उभयचरों, सरीसृपों और अकशेरूकीय (उनमें से अधिकांश) में भी होता है क्योंकि इन जीवों में पुन: उत्पन्न करने की क्षमता होती है, जिसका अर्थ है कि वे उस अंग को फिर से विकसित कर सकते हैं। और समय अवधि सभी के लिए अलग-अलग होती है। छिपकलियों में, यह छह महीने और एक वर्ष के बीच फिर से विकसित होता है। यहां हम खास तौर पर छिपकलियों के बारे में बात कर रहे हैं।

See also  Jobner Me Minus Temperature Ka Raaz: जयपुर के जोबनेर में तापमान माइनस में क्यों रहता है? जोबनेर के इतना ठंडा रहने का राज़ आज हम आपको बताते 2 बड़े कारण!

छिपकली को चोट लगने पर खून बहने की जगह खून का थक्का बन जाता है और उसके कुछ ही समय बाद उसकी चोट ठीक होने लगती है। इससे उसकी कोशिकाओं में किसी तरह का संक्रमण नहीं होता है। रक्त के थक्के के नीचे उपकला कोशिकाएं घाव के चारों ओर जमा हो जाती हैं, जिससे घाव ठीक हो जाता है और घाव के स्थान पर एक उभार बन जाता है। यह उभार पुनर्जनन करने वाली कोशिकाओं के कारण होता है जो सक्रिय अविभाजित मेसेंकाईम कोशिकाएं होती हैं।

Lizard Amazing Facts In Hindi

जीवित कोशिकाओं के बारे में जानकारी
सामान्य ज्ञान:
वहीं अगर पुनर्जनन कोशिकाओं की बात करें तो ये कोशिकाएं धीरे-धीरे अपने कटे हुए हिस्से का निर्माण करने लगती हैं और इस पूरी प्रक्रिया में पुनर्जनन कोशिकाओं को एक पूर्ण अंग बनाने में लगभग 10 वर्ष का समय लग जाता है। इसमें एक हफ्ता लगता है और इस तरह छिपकली की कटी हुई या क्षतिग्रस्त पूँछ भी वापस आ जाती है !

जैसा कि आपको बताया गया था कि भले ही मानव शरीर में कटे हुए अंगों में कटने के बाद पुन: उत्पन्न होने की क्षमता नहीं होती है, फिर भी मानव शरीर में कुछ कोशिकाएं ऐसी होती हैं जिनमें पुन: उत्पन्न करने की क्षमता होती है, जैसे बाल, नाखून और यकृत। ,

दबाव महसूस होने पर पूंछ अलग हो जाती है

छिपकली की पूंछ में कमजोरी की एक रेखा होती है जिसे फ्रैक्चर प्लेन कहा जाता है, जब भी उसे इस बिंदु पर तनाव या कुछ भी असामान्य महसूस होता है तो वह उस बिंदु से ही अलग हो जाती है जिसे हम रिफ्लेक्स मसल स्पाज्म या मांसपेशियों में ऐंठन कहते हैं। यह कहा जाता है। और उस पूंछ के कंकाल के स्थान पर एक कार्टिलेज रॉड विकसित हो जाती है, जो उसकी रीढ़ की हड्डी से ही बढ़ती है और वह कुछ छोटी और रंग में हल्की होती है।

कटने पर उनमें खून नहीं आता

See also  Interesting Facts About Moles - Feeding, Digging Behavior, Habitat, and Breeding Season

यह प्रक्रिया उसे प्रकृति की देन है, जिसकी मदद से वह अपनी रक्षा करती है। इससे उसे खून की कमी नहीं होती है। और दूसरी महत्वपूर्ण बात यह है कि चूँकि उस पूँछ में कुछ समय तक संचरण रहता है, वह कटी हुई पूँछ कुछ समय के लिए चलती है, जिससे शत्रु को छिपकली होने का भ्रम हो जाता है और वह इस आपात स्थिति से बच जाता है। पुनर्जनन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें जीवों के खोए हुए या कटे हुए अंग पुन: उत्पन्न हो जाते हैं। उदाहरण के लिए, छिपकली, ऑक्टोपस, स्टारफिश, एक्सोलोटल, सैलामैंडर आदि के शरीर में पुनर्जनन की अद्वितीय क्षमता होती है। जिससे उनके अंग कटने या क्षतिग्रस्त होने पर फिर से विकसित हो जाते हैं।

छिपकलियों की लगभग 6000 प्रजातियाँ पाई जाती हैं। छिपकलियों की जिस प्रजाति को हम ज्यादातर देखते हैं वह आम छिपकली है जो हमारे घरों की दीवारों पर देखने को मिलती है। वहीं गिरगिट की एक और प्रजाति है जो हमें घर के आसपास झाड़ियों में देखने को मिल जाती है। गिरगिट अक्सर रंग बदलने और शिकार से बचने के लिए खुद को छिपाने में माहिर होते हैं।

अब सवाल यह है कि क्या ऐसी क्षमता इंसानों में भी पाई जाती है? Now the question is whether such ability is found in humans too?

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इंसान के नाखून और बालों का फिर से उगना भी इसी क्षमता के कारण होता है लेकिन ये मृत कोशिकाएं होती हैं। मनुष्य के यकृत में पुनर्जनन की अपार क्षमता पाई जाती है। चोट लगने के बाद घाव का कुछ दिनों में ठीक हो जाना भी कोशिकाओं की पुनर्जनन क्षमता का परिणाम होता है, लेकिन यह क्षमता मानव शरीर के किसी बाहरी अंग जैसे हाथ-पैर में नहीं पाई जाती है।

छिपकली दीवारों से क्यों नहीं गिरती?

अक्सर हम सभी छिपकलियों को घरों की दीवार या छत पर टहलते या दौड़ते हुए देखते हैं, तो हम सोचते हैं, “छिपकली दीवारों से क्यों नहीं गिर जाती?” तो आज हम आपको बताएंगे कि छिपकली दीवार पर कैसे चलती है और छिपकली के पैर में ऐसा क्या होता है कि वह छत या दीवार से नहीं गिरती है।

  • लंबे समय तक यह माना जाता था कि छिपकली के पैर कुछ तरल पदार्थ का स्राव करते हैं, जिसके कारण छिपकली किसी चिकनी सतह या दीवार पर चल सकती है, लेकिन बाद में पता चला कि ऐसा नहीं है।
  • फिर कुछ दिनों तक यह माना गया कि छिपकली के पैर और दीवार के बीच एक गैप बन जाता है, जिससे छिपकली चल तो सकती है, लेकिन चल नहीं सकती। दरअसल छिपकली के पैरों में लाखों फाइबर पाए जाते हैं। जो आगे चलकर सैकड़ों सूक्ष्म तंतुओं या पुटिकाओं में बंटे रहते हैं।
  • वैन डेर वॉल का बल तब उत्पन्न होता है जब एक छिपकली दीवार पर चलती है। और इसी बल के कारण छिपकली दीवार पर चलने में सक्षम हो जाती है।
See also  When and why is Raksha Bandhan celebrated?

Lizard Amazing Facts In Hindi

छिपकली का वैज्ञानिक नाम और विशेष लक्षण

घरेलू छिपकली का वैज्ञानिक नाम है: लैसर्टिलिया
जंगली पैंगोलिन का वैज्ञानिक नाम है: हेमिडैक्टाइलस फ्लेविरिडिस
घरों में पाई जाने वाली छिपकली जहरीली नहीं होती है।
हिंदू शास्त्रों में छिपकली को देवी लक्ष्मी का रूप बताया गया है।
सबसे खास बात यह है कि अगर घर में छिपकली नहीं होगी तो कीड़ों की संख्या लगातार बढ़ती जाएगी।

Lizard Amazing Facts In Hindi

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए स्टार पर क्लिक करें!

Average rating / 5. Vote count:

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

जैसा कि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगी...

Follow us on social media!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

आइए इस पोस्ट को सुधारें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

By Team Counting Flybeast

हमारी वेबसाइट में आपका स्वागत है, यह एक हिंदी वेबसाइट है जहाँ पर आपको हिंदी में हर तरह की जानकारी जैसे की Technology, Facts, Sarkari Yojana, Hindi Biography, Tips-Tricks, Health, Finance आदि उपलब्ध कराए जाएंगे और जो भी पोस्ट प्राप्त करेगा वह आपको अधिक से अधिक सही जानकारी के साथ मिल जाएगा ताकि आपको समझने में कोई परेशानी न हो और आप बेहतर हो जाएं आप समझ सकते हैं और आप जो भी सर्च करना चाहते हैं, इस वेबसाइट के नाम को अपने टॉपिक के नाम के साथ गूगल में डालने से आपको मिल जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *