Nakseer Kyu Aati Hai: नाक से खून आने के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज

By | February 20, 2023
Nakseer Kyu Aati Hai
5
(1)

Nakseer Kyu Aati Hai: अक्सर लोग खून देखकर घबरा जाते हैं। वहीं जब खून नाक से बहने लगता है तो गंभीर बीमारी का डर लोगों को सताने लगता है। वैसे तो नाक से खून आना कोई गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन नाक से लगातार खून आने पर स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की जरूरत है। यह किसी गंभीर स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है। यही वजह है कि स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको इसके कारण, इलाज और कब यह समस्या गंभीर हो सकती है, इसके बारे में बताने जा रहे हैं।

नकसीर किसे कहते है – What is Epistaxis 

नाकसीर या नाक से खून आना या एपिस्टेक्सिस (Epistaxis) एक नाक से संबंधित बीमारी हैं। इसमें नाक से खून (रक्त) लगता है। वैसे तो नाक से खून निकलना आपको में कोई बीमारी नहीं है लेकिन, जब बार-बार नाक से खून निकलता है तब यह एक बीमारी बन जाती है।

नाक की सतह के अंदर मौजूद खून की वाहिनियों से नकसीर फटती है। यह समस्या गर्मी के मौसम में ज्यादा होती है। यह मौसम के अनुसार शरीर में अधिक गर्मी बढ़ने से या अधिक गर्म पदार्थों का सेवन करने से भी हो सकता है। इस तरह की नसीर जल्दी ही ठीक हो जाती है और बहुत कम उपचार की आवश्यकता होती है।

कभी-कभी रक्त मुंह में भी चला जाता है जिससे श्वास नली अवरूद्घ हो सकती है। यह गंभीर हो सकता है। यहां हम नकसीर (नाक से खून आना) से निजात पाने के लिए कुछ घरेलू उपचार बता रहे हैं।

नाक से खून आने के प्रकार – Types of Nose Bleed in Hindi

एंटीरियर (Anterior): अग्रभाग में नाक के आगे के भाग से रक्तस्राव होने लगता है। इसे आम भाषा में Nose Bleed भी कहते हैं। इस दौरान नाक की अंदरूनी सतह की रक्त वाहिकाएं फट जाने से नाक से खून आने लगता है। इन रक्त वाहिकाओं को केसेलबैक प्लेक्सस के रूप में जाना जाता है। नाक से खून आने की इस स्थिति को बहुत आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।

पोस्टीरियर (Posterior): पोस्टीरियर में नाक के पीछे से ब्लीडिंग होती है। इस दौरान नाक की अंदरूनी नसें और दिमाग से जुड़ने वाली नसें प्रभावित होती हैं। यह बहुत ही दुर्लभ और गंभीर है। लगातार नाक से खून बहने पर रोगी को अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता हो सकती है।

Causes of Nose Bleed in Hindi – नाक से खून आने के कारण

नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं। यह एलर्जी और नाक की जलन से लेकर गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं तक है। नीचे हम नाक से खून आने के विभिन्न कारणों के बारे में बात करेंगे।

  • सर्दी, छींक या साइनस की समस्या के कारण नाक में जलन
  • ठंडी या गर्म हवा
  • उच्च रक्तचाप
  • नाक में ऊँगली डालना
  • नाक बंद
  • नाक की चोट
  • साइनस या पिट्यूटरी ट्यूमर सर्जरी
  • विचलन पट
  • विटामिन के की कमी
  • दवाओं के रासायनिक प्रभाव
  • नाक स्प्रे ओवरडोज
  • नेज़ल कैनुलास के साथ ऑक्सीजन उपचार

Nosebleeds Symptoms in Hindi – नकसीर के लक्षण

खून बहने से पहले सिर में भारीपन महसूस होता है। इसके बाद अचानक सिरदर्द होता है। मन भटकने लगता है और कभी-कभी तेज चक्कर भी आते हैं। इसके बाद बच्चे या युवक की नाक से गर्म खून बहने लगता है। रक्त का प्रवाह कभी बाईं नासिका से होता है तो कभी दोनों नासिका छिद्रों से। खून मुंह में जाता है और पेट में भी जाता है। इससे खांसी होती है। रोगी घबरा जाता है। उसे सांस लेने में भी तकलीफ होने लगती है। कई बार पेशाब और मल में खून भी आता है। इसके अलावा अनियमित दिल की धड़कन भी इसका एक लक्षण है।

See also  Calcium Ki Kami Se Kya Hota Hai: शरीर में कैल्शियम की कमी से बढ़ता है इन 5 बीमारियों का खतरा, जानिए क्या हैं कैल्शियम की कमी के कारण?

चिकित्सा सहायता कब मांगी जानी चाहिए?

नकसीर के अधिकांश मामले मामूली होते हैं और आमतौर पर कुछ Self-देखभाल से बंद हो जाते हैं।

हालांकि, यदि आपको उच्च रक्तचाप है, एक ऐसी स्थिति है जहां आपका रक्त ठीक से नहीं जमता है (anticoagulants) या यदि आप ऐसी दवाएं ले रहे हैं जो आपके रक्त को पतला करती हैं (anticoagulants) तो रक्तस्राव भारी या लंबे समय तक हो सकता है, जैसे कि वारफारिन या एस्पिरिन।

  • आपकी नाक से 10 से 15 मिनट से अधिक समय तक खून बह रहा है।
  • लगता है ज्यादा खून बह रहा है।
  • आपको लगता है कि आपको सामान्य रूप से सांस लेने में परेशानी हो रही है।
  • आपको चक्कर या कमजोरी महसूस होती है।
  • नाक से खून बहने के कारण आप अधिक खून निगल रहे हैं जिससे आपको उल्टी हो रही है।
  • आपके सिर में चोट लगने के बाद नाक से खून बहने लगा।

नकसीर के बाद मुझे क्या करना चाहिए? What should I do after a nosebleed?

Nakseer Aane Par Kya Karen- नाक से खून आने के बाद 24 घंटे तक निम्नलिखित चीजों से परहेज करें।

  • नाक को पकड़ना या साफ करना
  • एल्कोहल पीना या गरम पेय पीना
  • झुकना
  • भारी वजन उठाना
  • बन सकने वाले किसी पपड़ी को हटाना
  • सीधा लेटना
  • श्रम वाले व्यायाम

मैं नकसीर कैसे रोकूं? How do I stop a nosebleed?

  • रिलैक्स हो जाये।
  • सीधे बैठ जाएं और अपने शरीर और सिर को थोड़ा आगे की ओर झुकाएं। यह रक्त को आपके गले के नीचे बहने से रोकेगा, जिससे मतली, उल्टी और दस्त हो सकते हैं। (सपाट न लेटें या अपना सिर अपने पैरों के बीच न रखें।)
  • अपने मुंह से सांस लें।
  • रक्त को पोछने के लिए एक टिश्यू या नम वॉशक्लॉथ का उपयोग करें।
  • अपनी नाक के नरम हिस्से को एक साथ पिंच करने के लिए अपने अंगूठे और तर्जनी का उपयोग करें। नाक के bridge को बनाने वाले सख्त बोनी रिज के अगेंस नाक के नरम हिस्से को पिंच करना सुनिश्चित करें। नाक के बोनी हिस्से पर या उसके ऊपर Squeezing से दबाव नहीं पड़ेगा जहां यह रक्तस्राव को रोकने में मदद कर सकता है।
  • रक्तस्राव बंद हो गया है या नहीं यह जाँचने से पहले कम से कम 5 मिनट (घड़ी के अनुसार समय) के लिए अपनी नाक को लगातार pinching करते रहें। अगर आपकी नाक से अभी भी खून बह रहा है, तो अगले 10 मिनट तक नाक को दबाना जारी रखें।
  • यदि आप चाहें, तो रक्त वाहिकाओं को संकुचित करने में मदद करने के लिए (जो रक्तस्राव को धीमा कर देगा) और आराम प्रदान करने के लिए अपनी नाक के ब्रिज पर एक आइस पैक लगाएं। यह एक आवश्यक कदम नहीं है, लेकिन आप चाहें तो इसे आजमा सकते हैं।
  • आप ओवर-द-काउंटर डीकॉन्गेस्टेंट स्प्रे, जैसे कि ऑक्सीमेटाज़ोलिन (Afrin®, Dristan®, Neo-Synephrine®, Vicks Sinex®, अन्य) को नाक के रक्तस्राव वाले हिस्से में स्प्रे कर सकते हैं और फिर ऊपर बताए अनुसार नाक पर दबाव डाल सकते हैं।
  • चेतावनी: डॉक्टर की देख रेक में करे, इन सामयिक decongestant स्प्रे का उपयोग लंबे समय तक नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा करने से वास्तव में नकसीर आने की संभावना बढ़ सकती है।
  • खून बहना बंद होने के बाद झुकना नहीं चाहिए, तनाव नहीं लेना चाहिए और/या कोई भारी चीज नहीं उठानी चाहिए। अपनी नाक को कई दिनों तक फूंकें या मलें नहीं।
See also  Best Serum For Glowing Skin in Hindi: त्वचा में चमक और निखार बनाए रखने के लिए इन 8 फेस सीरम का इस्तेमाल करें

नाक से खून निकलना कम करने के लिए घरेलू उपाय- Home Remedies To Stop Nose Bleeding in Hindi

  • नाम से खून आने की समस्या में बर्फ के टुकड़े का इस्तेमाल फायदेमंद हो सकता है। एनसीबीआई में प्रकाशित एक शोध में पाया गया कि बर्फ की ठंडक रक्तस्राव को कम करती है। इससे खून बहना बंद हो जाता है। इससे हम यह मान सकते हैं कि नाक से खून बहने को रोकने के लिए बर्फ के टुकड़े फायदेमंद हो सकते हैं। हालांकि, आइस क्यूब्स को सीधे त्वचा पर इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इसे किसी मुलायम कपड़े में लपेटकर ही इस्तेमाल करें।
  • जैसा कि हम ऊपर बता चुके हैं कि नाक से खून आने का कारण ब्लड प्रेशर का बढ़ना भी है। वहीं, सेब का सिरका ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसमें पाया जाने वाला एसिटिक एसिड ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मददगार हो सकता है। यहां बता दें कि इस संबंध में अभी और वैज्ञानिक शोध की जरूरत है, इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछें।
  • अगर ब्लड प्रेशर बढ़ने के कारण नाक से खून आ रहा है तो काली मिर्च इस समस्या को कम करने में मदद कर सकती है। दरअसल, लाल मिर्च रक्त वाहिकाओं को खोलकर रक्त प्रवाह को बढ़ाने में मदद करती है, जिससे ब्लड प्रेशर कम होता है। बता दें, लाल मिर्च को आम भाषा में लाल मिर्च कहा जाता है.
  • जैसा कि आपने ऊपर पढ़ा, अक्सर शुष्क हवा भी नाक से खून बहने का कारण बन सकती है। ऐसे में ह्यूमिडिफायर मददगार हो सकता है। शोध में इस बात की पुष्टि हुई है कि ह्यूमिडिफायर की मदद से नाक के आसपास की शुष्क हवा को नम किया जा सकता है और इससे होने वाले रक्तस्राव की समस्या को कम किया जा सकता है।
  • प्याज का इस्तेमाल बंद नाक को खोलने, बहती नाक को ठीक करने और ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए किया जाता है। वहीं आपको लेख में पहले ही बताया जा चुका है कि हाई बीपी के कारण नाक से खून आने की समस्या हो सकती है। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि प्याज का रस नाक से खून आने की समस्या को रोकने में मदद कर सकता है।
  • खारा स्प्रे संक्रमण को साफ करने में मदद करता है। संक्रमण दूर करने के साथ-साथ नाक से खून आने की समस्या में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है। शोध के अनुसार, यह नाक के मार्ग में आने वाले रक्त को रोकने में मदद कर सकता है।
  • शुष्क मौसम के कारण भी नाक से खून आने लगता है। ऐसे में विटामिन ई के इस्तेमाल से नाक की झिल्ली को मॉइस्चराइज किया जा सकता है। विटामिन ई में हाइड्रेटिंग गुण होते हैं। वहीं, नाक से खून आने की समस्या में भी विटामिन ई का इस्तेमाल दवा के तौर पर किया जा सकता है।
  • नोज़ल कप में नमक डालकर नाक से खून आने की समस्या का इलाज किया जा सकता है। इस विधि से क्रोनिक साइनस की समस्या को भी कुछ हद तक कम किया जा सकता है, जो नाक से खून आने का एक कारण हो सकता है। ऐसे में माना जाता है कि यह प्रक्रिया नाक में सूजन और संक्रमण को दूर कर इस समस्या में राहत दिला सकती है। हालाँकि, यह केवल एक अनुमान है। यह विधि वास्तव में कैसे काम करती है, इस पर और अधिक शोध की आवश्यकता है।
  • आयुर्वेद में तुलसी का प्रयोग काफी समय से किया जा रहा है। इसमें शरीर को सर्दी और फ्लू से बचाने के गुण होते हैं। तुलसी में एंटीबैक्टीरियल, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुण होते हैं, जो घाव भरने में मदद कर सकते हैं, संक्रमण को रोक सकते हैं और दर्द से राहत दिला सकते हैं। वहीं दूसरी ओर नाक में चोट या घाव के कारण भी नाक से खून आने की समस्या हो सकती है। वहीं तुलसी से जुड़े एक शोध में इसे सीधे तौर पर नाक से खून आने की समस्या में उपयोगी माना गया है। इस आधार पर यह कहना गलत नहीं होगा कि नाक से खून आने की समस्या में तुलसी का प्रयोग कारगर हो सकता है।
See also  How to Stop Overthinking

सलाह और बचाव – Prevention Tips for Nose Bleed in Hindi

  • गर्भनिरोधक गोलियों के इस्तेमाल में सावधानी बरतें, क्योंकि गलत गोलियों के इस्तेमाल से नाक से खून आना शुरू हो सकता है।
  • शुष्क वातावरण में रहने से बचें। एयर कंडीशनर और एयर कूलर बहुत अच्छे हैं क्योंकि ये हवा में नमी बनाए रखते हैं।
  • गर्मियों में चिलचिलाती धूप से बाहर न निकलें और सीधे वातानुकूलित कमरे में चले जाएं।
  • अपनी नाक को किसी भी चीज से न खुजलाएं और अपने नाखूनों को छोटा रखें। कई बार नाक में खरोंच नाखूनों के कारण भी आ जाती है।
  • यदि आपकी नाक से खून बहने के दौरान आपको छींक आती है, तो आपको अपने मुंह से हवा निकालने की कोशिश करनी चाहिए ताकि आप अपनी नाक को और अधिक चोट न पहुंचाएं और अधिक रक्तस्राव का कारण बनें।
  • नाक से खून आने पर कुछ दिनों तक नाक और गालों पर बर्फ लगाते रहे।
  • अगर आपको सांस लेने में कठिनाई हो रही है, खासकर तब जब आपके गले से खून बह रहा हो तो आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए। इससे जलन और खांसी हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप संक्रमण हो सकता है, जिससे सांस लेने में समस्या हो सकती है।
  • चोट लगने पर अगर बच्चे के नाक से खून आने लगे तो देर न करें। उसे तुरंत अस्पताल ले जाओ। दुर्घटना के कारण नाक से खून आए तो भी लापरवाही न करें। कई बार दिमाग में चोट लगने पर भी नाक से खून आने लगता है।
  • कई बार आपके द्वारा सेवन की जाने वाली दवाएं भी नाक से खून आने का कारण बन जाती हैं। इन दवाओं, जैसे एस्पिरिन और हेपरिन में ऐसे तत्व होते हैं जो रक्त को पतला करते हैं और कभी-कभी नकसीर का कारण बनते हैं। अगर ऐसा है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
  • अपनी नाक और सिर पर चोट से बचने के लिए खेल या संबंधित गतिविधियों के दौरान सुरक्षात्मक गियर पहनें।

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए स्टार पर क्लिक करें!

Average rating 5 / 5. Vote count: 1

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

जैसा कि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगी...

Follow us on social media!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

आइए इस पोस्ट को सुधारें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *