SIP Investment Kya Hota Hai In Hindi: मासिक SIP से 20 वर्षों में 10 करोड़ कैसे बनाये और SIP शुरू करने का सही समय क्या है?

By | December 10, 2022
SIP Investment Kya Hota Hai In Hindi
0
(0)

SIP Investment Kya Hota Hai In Hindi: मासिक SIP से 20 वर्षों में 10 करोड़ कैसे बनाये और SIP शुरू करने का सही समय क्या है?  सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान या SIP Mutual Fund में निवेश का एक तरीका है जहां एक निवेशक म्यूचुअल फंड स्कीम चुनता है और समय के साथ इसमें निवेश करता है। एक SIP Investment योजना एक बार में बड़ी राशि का निवेश करने के बजाय एक छोटी राशि का निवेश करके काम करती है जिसके परिणामस्वरूप High Returns मिल सकता है।

SIP शुरू करने की सही तारीख

SIP Investment Kya Hota Hai Hindi Me या Systematic Investment Plan में निवेश शुरू करने के लिए सही तारीख चुनने का कोई खास फॉर्मूला नहीं है, लेकिन एचडीएफसी बैंक के मुताबिक हर महीने की 10 तारीख के बाद की तारीख चुनने की सलाह दी जाती है, ताकि आपको कोई पेनाल्टी न देनी पड़े। किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। आमतौर पर निवेशक SIP की तारीख उसी तारीख के हिसाब से तय करते हैं, जिस तारीख को उन्हें पता होता है कि SIP से जुड़े बैंक खाते में पैसा उपलब्ध होगा। आप एसआईपी शुरू करने से पहले SIP Calculator का इस्तेमाल कर सकते हैं, ताकि आपको रिटर्न का अंदाजा हो सके।

म्यूचुअल फंड में SIP क्या है?

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान या SIP Mutual Fund में निवेश का एक तरीका है जहां एक निवेशक म्यूचुअल फंड स्कीम चुनता है और समय के साथ इसमें निवेश करता है। एक एसआईपी निवेश योजना एक बार में बड़ी राशि का निवेश करने के बजाय एक छोटी राशि का निवेश करके काम करती है जिसके परिणामस्वरूप उच्च रिटर्न मिल सकता है।

क्या होगा यदि आप भुगतान तिथि चूक गए हैं?

वैसे तो हर SIP में ऑटो डेबिट ट्रांजैक्शन फीचर होता है, इसलिए तय तारीख पर लिंक्ड बैंक अकाउंट से पैसा अपने आप जमा हो जाता है। लेकिन हां, अगर खाते में बैलेंस न होने की वजह से एसआईपी में पैसा ड्यू डेट पर जमा नहीं होता है तो बैंक आपसे चार्ज जरूर लेते हैं। इसलिए ध्यान रखें कि ड्यू डेट पर आपके अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस हो।

अपने निवेश लक्ष्यों को पहचानें

अपना निवेश शुरू करने के लिए, आपके पास Short Term और Long Term Goals दोनों होने चाहिए। SIP शुरू करने से पहले इस निवेश के जरिए हासिल किए जाने वाले लक्ष्य को समझना जरूरी है। यह सरल कदम आपको यह तय करने में मदद करेगा कि आप कितनी राशि का निवेश करना चाहते हैं और कितने समय के लिए। आपके अलग-अलग वित्तीय लक्ष्य हो सकते हैं जैसे कार खरीदना, घर खरीदना, बच्चे की शिक्षा, शादी आदि। इसलिए एक एसआईपी आपके सभी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए पर्याप्त नहीं हो सकता है। वित्तीय लक्ष्यों की संख्या के आधार पर, आप इनमें से प्रत्येक लक्ष्य को पूरा करने के लिए कई SIP में निवेश कर सकते हैं।

See also  Credit Card Kya Hota Hai In Hindi: क्रेडिट कार्ड के प्रकार, क्रेडिट कार्ड कैसे काम करता है, फायदे, नुकसान, क्रेडिट कार्ड के लिए कैसे अप्लाई करें जाने सबकुछ!

SIP Investment Kya Hota Hai Hindi Me

एसआईपी कैसे काम करता है? SIP Kaise Kaam Karta Hai

अब जब हम ‘SIP Investment‘ का मतलब समझ गए हैं, तो देखते हैं कि ये कैसे काम करते हैं। एक बार जब आप एक Systematic Investment की  योजना चुनते हैं, तो राशि आपके बैंक खाते से स्वचालित रूप से डेबिट हो जाएगी और म्यूचुअल फंड में फिर से निवेश की जाएगी जिसे आप निश्चित पूर्व-निर्धारित समय अंतराल पर खरीदते हैं।आखिर में, आपको अपने म्यूचुअल फंड की Net Asset Value के आधार पर यूनिट्स आवंटित की जाएंगी।

भारत में SIP Investment में प्रत्येक निवेश के साथ, बाजार दर के अनुसार आपके खाते में अतिरिक्त Units जोड़ी जाएंगी। किए गए प्रत्येक निवेश के साथ, आपके द्वारा पुनर्निवेश की जाने वाली राशि उन निवेशों पर मिलने वाले किसी भी रिटर्न से अधिक होगी। निवेशक यह तय करता है कि रिटर्न SIP अवधि के अंत में या किसी आवधिक अंतराल पर प्राप्त किया जाए या नहीं। आइए एक उदाहरण की मदद से इसे बेहतर तरीके से समझने की कोशिश करते हैं।

मान लीजिए कि आप अपनी पसंद के म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं। तदनुसार, आपने उसी में निवेश करने के लिए 1 लाख रुपये की राशि अलग रखी है। यह निवेश आप दो तरीकों से कर सकते हैं। आप या तो अपनी पसंद के म्यूचुअल फंड में 1 लाख रुपये का Lump Sum Payment कर सकते हैं, जिसे Lump Sum Investment के रूप में जाना जाता है। इसके अलावा आप SIP के जरिए भी निवेश कर सकते हैं। इसके चरण इस प्रकार होंगे:

  • आप हर महीने अपने SIP के माध्यम से कितना निवेश करना चाहते हैं, यह तय करके शुरुआत करें। मान लीजिए कि आप ₹500 चुनते हैं।
  • इसके बाद, हर महीने आपके खाते से ₹500 काट लिए जाएंगे, और हर महीने एक निर्दिष्ट तिथि पर आप जिस म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं, उसमें Self Drive रूप से जमा हो जाएंगे।
  • यह प्रक्रिया उस अवधि तक जारी रहेगी जिसे आपने अपने सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के लिए चुना है।

SIP निवेश को चेक करते रहें

निवेश करने का मतलब यह नहीं है कि आप अपना पैसा कुछ उत्पादों में लगाएं और उसके बारे में भूल जाएं। आपको नियमित अंतराल पर अपने निवेश प्रदर्शन की निगरानी करनी चाहिए। कभी-कभी आपका निवेश उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाता है। यह गलत योजना या बाजार में नकारात्मक भावना के कारण हो सकता है। यदि आप नियमित रूप से अपने फंड के प्रदर्शन की जांच कर रहे हैं, तो आप अपेक्षित रिटर्न पाने के लिए आवश्यक कदम उठा सकते हैं। आप खराब प्रदर्शन वाली योजना से बाहर निकल सकते हैं और निवेश को किसी अन्य फंड में बदल सकते हैं। आप एसआईपी के जरिए जितना अधिक समय तक निवेश करेंगे, आपको उतना ही अधिक रिटर्न मिलने की संभावना है।

See also  What is Mutual Funds in Hindi: म्युचुअल फंड क्या है और यह कितने प्रकार के होते हैं?

कम समय में कितनी बड़ी पूंजी तैयार होती है, इसे समझिए

जब आप म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो आपको कुछ यूनिट्स आवंटित की जाती हैं। उदाहरण के लिए समझें कि अगर किसी म्यूचुअल फंड की NAV यानी नेट एसेट वैल्यू 20 रुपये है और आप उस म्यूचुअल फंड में 1000 रुपये निवेश करते हैं तो आपको 50 यूनिट आवंटित की जाएंगी। अब जैसे-जैसे म्यूचुअल फंड की एनएवी बढ़ेगी, वैसे-वैसे आपका निवेशित पैसा भी बढ़ेगा। अगर म्यूचुअल फंड का एनएवी 35 रुपए हो जाता है तो आपकी 50 यूनिट की लागत बढ़कर 1750 रुपए हो जाएगी। इस तरह एसआईपी के जरिए कम समय में ज्यादा पूंजी बनाई जा सकती है।

Benefits of SIP Investment

व्यवस्थित निवेश योजनाओं के प्रकार Types of Systematic Investment Plans

नीचे विभिन्न प्रकार की व्यवस्थित निवेश योजनाएं हैं जिनमें आप निवेश करने पर विचार कर सकते हैं:

टॉप-अप एसआईपी: Top-up SIP:

इस प्रकार की व्यवस्थित निवेश योजना आपको समय के साथ अपनी निवेश राशि बढ़ाने में सक्षम बनाती है, साथ ही आपको अधिक निवेश योग्य आय होने पर अधिक निवेश करने की सुविधा भी देती है। इस प्रकार का SIP नियमित अंतराल पर सर्वोत्तम और साथ ही सर्वोत्तम प्रदर्शन करने वाले फंडों में निवेश करके आपके निवेश का अधिकतम लाभ उठाने में मदद करता है।

Flexible SIP:

जैसा कि नाम से पता चलता है, इस प्रकार की व्यवस्थित निवेश योजना में आपकी इच्छा के अनुसार निवेश करने की सुविधा होती है। निवेश की जाने वाली राशि को नकदी प्रवाह और निवेशक की जरूरतों या वरीयताओं के अनुसार बढ़ाया या घटाया जा सकता है।

Perpetual (Continuous running) SIP:

इस प्रकार की एसआईपी योजना आपको बिना किसी अनिवार्य तिथि के अपना निवेश करने में सक्षम बनाती है। आम तौर पर, एक व्यवस्थित निवेश योजना की समाप्ति तिथि एक साल, तीन साल या पांच साल के निवेश के बाद होती है। इसलिए, निवेशक निवेश की गई राशि को वापस लेने के लिए स्वतंत्र है, चाहे वह इसे अपने वित्तीय लक्ष्यों के अनुसार निवेश करना चाहता हो या नहीं।

Investment Plan सावधानी से चुनें

SIP Investment Kya Hota Hai Hindi Me: म्यूचुअल फंड में निवेश के लिए बाजार विकल्पों से भरा पड़ा है। आप इक्विटी फंड, डेट फंड या हाइब्रिड फंड में निवेश कर सकते हैं। आप अपनी जोखिम लेने की क्षमता, वापसी की उम्मीदों और अपने वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर म्यूचुअल फंड योजनाओं का चयन कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास उच्च जोखिम लेने की क्षमता है और उच्च रिटर्न की उम्मीद है और लंबी अवधि के लिए निवेश करना चाहते हैं, तो आप इक्विटी एसेट क्लास का विकल्प चुन सकते हैं। कम जोखिम लेने की क्षमता वाले निवेशक डेट फंड में निवेश कर सकते हैं। मध्यम जोखिम लेने की क्षमता वाले निवेशक औसत रिटर्न की तलाश में हाइब्रिड फंड्स के लिए जा सकते हैं।

See also  Credit Card Se Account Me Paise Kaise Transfer Kare: क्रेडिट कार्ड से बैंक खाते में ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करें, क्रेडिट कार्ड से पैसे निकालने पर कितना चार्ज लगता है?

SIP निवेश के लाभ Benefits of SIP Investment

एकमुश्त निवेश की तुलना में SIP में निवेश करने के कुछ लाभ यहां दिए गए हैं। उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं।

  • SIP का पहला फायदा यह है कि इसमें निवेश की अवधि और SIP के जरिए निवेश में रकम को लेकर लचीलापन होता है। यानी आप अपनी सुविधा के अनुसार Monthly, Quarterly or Half Yearly Investment Period का विकल्प चुन सकते हैं। इसके अलावा जब भी आपको जरूरत हो आप इसे रोक सकते हैं और अपने SIP से पैसा निकाल सकते हैं।
  • जब आप समय-समय पर निवेश करते हैं तो आपको Rupee Cost Averaging का लाभ मिलता है। यानी अगर बाजार में गिरावट है और आपने पैसे का निवेश किया है, तो आपको अधिक इकाइयां आवंटित की जाएंगी और बाजार में बढ़ोतरी होने पर आवंटित इकाइयों की संख्या कम होगी। बाजार में उतार-चढ़ाव की स्थिति में भी आपके खर्चे औसत ही रहते हैं। यानी बाजार में गिरावट आने पर भी आप घाटे में नहीं जाते हैं। ऐसे में जब बाजार में तेजी आती है तो आपको अपने औसत निवेश पर ही बेहतर रिटर्न हासिल करने का मौका मिलता है।
  • SIP में कंपाउंडिंग का फायदा जबरदस्त है। इसलिए SIP को लंबे समय के लिए करना चाहिए, यह जितने लंबे समय के लिए होगा, कंपाउंडिंग का फायदा उतना ही ज्यादा होगा। कंपाउंडिंग के तहत सिर्फ आपके द्वारा निवेश की गई राशि पर रिटर्न नहीं मिलता है। बल्कि पहले के रिटर्न पर भी आपको रिटर्न मिलता है।
  • SIP के जरिए आप एक निश्चित समय के लिए बचत करना सीखते हैं, यानी आपको मासिक, तिमाही या छमाही में जो भी पैसा निवेश करना होता है, बाकी रकम आप उस रकम को बचाने के बाद ही खर्च करते हैं। इस तरह आपको अनुशासित निवेश करने की आदत हो जाती है।

SIP Investment Kya Hota Hai Hindi Me

→आखिर, SIP तो है ना←

SIP Investment Kya Hota Hai In Hindi

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए स्टार पर क्लिक करें!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

जैसा कि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगी...

Follow us on social media!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

आइए इस पोस्ट को सुधारें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *