Indian Currency

Indian Currency History in Hindi:-भारतीय मुद्रा का इतिहास

Indian Currency History in hindi

आपने लगभग हर भारतीय की जुबान पर एक आम बात सुनी होगी, यानि कि ‘बाप बड़ा ना भैया सबसे बड़ा रूपैया’ आज के दौर में आम से लेकर खास हर किसी के लिए पैसा एक जरूरी और जरूरतमंद चीजों में से एक है. आज के समय में पैसा कमाने के लिए इंसान अच्छे और बुरे काम करता है, क्योंकि बिना पैसे के कोई भी व्यक्ति अपना दैनिक जीवन नहीं कर सकता है और अपना और अपने परिवार का ठीक से ख्याल नहीं रख सकता है।

आज के दौर में पैसा इतना महत्वपूर्ण हो गया है कि बिना पैसे के जीवन जीना नामुमकिन सा लगता है। लेकिन क्या आप पैसे से जुड़ी सारी जानकारी जानते हैं? अगर नहीं, तो आज मैं आपको भारतीय मुद्रा का इतिहास और उससे जुड़ी मजेदार और रोचक बातें बताऊंगा।

पैसे की शुरुआत कब हुई, किसने की और पैसे का सबसे पहले इस्तेमाल कब किया गया? और इसी तरह। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से भारतीय मुद्रा के पूरे इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं और यह भी बताएंगे कि भारतीय मुद्रा का विकास कैसे हुआ?

Indian rupee भारत की राष्ट्रीय मुद्रा है। इसका बाजार नियामक और जारीकर्ता भारतीय रिजर्व बैंक है। नये प्रतीक चिह्न के आने से पहले रूपये को हिन्दी में दर्शाने के लिए ‘रु’ और अंग्रेजी में Re. (1 रुपया), Rs. और Rp. का प्रयोग किया जाता था।  “रूपया” शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द रूपा या रूप्याह में हुई है, जिसका अर्थ है कच्ची चांदी और रूप्याकम का अर्थ है चांदी का सिक्का

When and who was the first to use the word Rupee?

रुपया शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम कब और किसने किया था ?

“रुपया” शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम शेर शाह सूरी ने भारत में अपने संक्षिप्त शासनकाल (1540-1545) के दौरान किया था। शेर शाह सूरी ने अपने शासनकाल के दौरान जो रुपया पेश किया था वह चांदी का सिक्का था जिसका वजन लगभग 178 अनाज (11.534 ग्राम) था। उन्होंने दामा नामक तांबे का सिक्का और मोहर नामक एक सोने का सिक्का भी पेश किया। बाद में, मुगल शासन के दौरान, पूरे उपमहाद्वीप में मौद्रिक प्रणाली को मजबूत करने के लिए तीनों धातुओं के सिक्कों का मानकीकरण किया गया। शेरशाह सूरी के शासनकाल के दौरान पेश किया गया ‘रुपया’ आज तक प्रचलन में है।

पहले रुपया (11.66 ग्राम) 16 आने या 64 पैसे या 192 पाई में बांटा गया था। रुपये का दशमलवकरण भारत में 1957 में हुआ था। इस प्रकार अब एक भारतीय रुपया 100 पैसे में विभाजित हो गया है। भारत में, कभी-कभी नए पैसे शब्द का इस्तेमाल पैसा के लिए भी किया जाता था।

When was the introduction of paper notes in the form of money in India?

भारत में कागज के नोटों को पैसे के रूप में कब पेश किया गया था?

दरअसल, हमारे देश में 1770 ई. से कागज के नोट चलन में थे और इसे सबसे पहले बैंक ऑफ हिंदुस्तान ने जारी किया था। लेकिन जब भारत में ब्रिटिश शासन चल रहा था, तब 1917 में पहली बार ब्रिटिश शासन द्वारा कागजी नोट जारी किए गए थे। महाराष्ट्र के नासिक में हमारे देश की आजादी से पहले 1926 में बैंक द्वारा कागज को छापने की अनुमति दी गई थी।

When was the Reserve Bank of India given permission to print Indian coins?

भारतीय रिजर्व बैंक को भारतीय सिक्कों को छापने की अनुमति कब दी गई थी?

Indian Currency– जब भारत देश में RBI के पास ये सभी शक्तियां नहीं थीं, जैसे नोटों की छपाई, कितने रुपये के नोट छापने हैं और जारी किए गए नोटों पर खातों को रखने की जिम्मेदारी आदि। इससे पहले इंग्लैंड में सभी भारतीय मुद्राएं छपती थीं।। वर्ष 1935 में, भारतीय रिजर्व बैंक को रुपये जारी करने और रुपये छापने की जिम्मेदारी दी गई थी। नोट छापने की मशीन हमारे देश में पहली बार 1928 में महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थापित की गई थी और यहां पहली बार 5, 10, 100 रुपये, 1000 रुपये और 10000 रुपये के नोट भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा मुद्रित किए गए थे। और आरबीआई द्वारा जारी किए गए ये सभी कागजी नोट पूरे भारत में जारी किए गए थे।

What is the history of pictures printed on Indian currency notes?

भारतीय करेंसी नोटों पर छपी तस्वीरों का इतिहास क्या है?

1949 में जब Indian Currency पहली बार भारत में छपीं, तो उनका स्वरूप ब्रिटिश प्रशासन से पूरी तरह अलग हो गया था। पहले Indian Currency एक रुपये के रूप में छपी थी और इस नोट के प्रिंट में अशोक स्तंभ को जगह दी गई थी। यहीं से भारतीय रुपये में छपाई के दौरान लगातार बदलाव होते रहे हैं। आरबीआई ने कई नोट छापे हैं, जिनमें भारत की अलग-अलग सांस्कृतिक और ऐतिहासिक इमारतों को अलग-अलग तरीके से छापा गया है। उदाहरण के लिए गेटवे ऑफ इंडिया और बृहदेश्वर मंदिर की तस्वीरें छपी थीं और इतना ही नहीं, जब 1953 में नोट छापे गए थे, तब भारत सरकार द्वारा नोटों पर हिंदी भाषा का इस्तेमाल किया गया था।

भारतीय मुद्रा के बारे में रोचक तथ्य हिंदी में

Interesting facts about Indian currency in Hindi

What was the value of Indian one rupee against dollar at the time of independence?

1. आजादी के समय भारतीय एक रुपए की कीमत डॉलर के मुकाबले क्या थी ?

आजादी से पहले जब 1 रुपया 13 डॉलर के बराबर था. तब 1947 में भारत आजाद हुआ, 1 = 1 डॉलर बना. फिर धीरे-धीरे भारत पर कर्ज बढ़ने लगा, तब इंदिरा गांधी ने कर्ज चुकाने के लिए रुपये के मूल्य को कम करने का फैसला किया, उसके बाद आज तक रुपये का मूल्य घट रहा है। और आज के दौर में पूरा उल्टा 1$ = 70 + हो गया है।

2. रुपए  के चिन्ह का आविष्कार किसने किया ?

Who invented the rupee sign?

रुपये के symbol का आविष्कार उदय कुमार, IIT सहायक प्रोफेसर, गुवाहाटी ने किया था। 2010 में, इस प्रतीक को आधिकारिक तौर पर नोटों पर मुद्रित करना शुरू किया गया था।

3. महात्मा गाँधी की फोटो

Photo of mahatma gandhi

1996 से पहले भारतीय मुद्रा में महात्मा गांधी की कोई तस्वीर नहीं होती थी, इसके स्थान पर अशोक स्तंभ छपा होता था। महात्मा गांधी की जो तस्वीर छपी है, वह तब ली गई थी जब गांधीजी बर्मा और भारत में तत्कालीन ब्रिटिश सचिव फ्रेडरिक पेथिक लॉरेंस से मिलने कोलकाता के वायसराय हाउस में गए थे।

4. मुद्रा पर फोटो का प्रयोग

Use of photo on currency

हर भारतीय नोट पर इंसान, जानवर, प्रकृति से लेकर स्वतंत्रता आंदोलन तक किसी न किसी चीज की फोटो छपी होती है। 20 रुपये के नोट पर अंडमान द्वीप की तस्वीर है। वहीं, 10 रुपये के नोट पर हाथी, गैंडा और शेर छपा हुआ है, जबकि 100 रुपये के नोट में पहाड़ और बादल की तस्वीर है. इसके अलावा 500 रुपये के नोट पर स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़ी 11 मूर्तियों की तस्वीर छपी है.

How to wake up early in the morning:-सुबह जल्दी कैसे उठें

Indian Currency

एक रुपये का नोट वित्त मंत्रालय द्वारा नहीं छापा जाता है। इस नोट के आगे वाले हिस्से में एक रुपये के सिक्के की तस्वीर है और नोट के पिछले हिस्से में तेल की खोज करने वाली जगह की तस्वीर है।

हालांकि आरबीआई ने 2 रुपये के नोटों की छपाई की लागत अधिक होने के कारण छपाई बंद कर दी है लेकिन पुराने नोट अभी भी वैध हैं।इस नोट के सामने वाले हिस्से में अशोक प्रतीक की तस्वीर है जबकि नोट के पिछले हिस्से में भारत के पहले उपग्रह “आर्यभट्ट” की छवि है। यह नोट विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की प्रगति को दर्शाता है।

5 Rupee इन नोटों की छपाई की बढ़ती लागत के कारण आरबीआई ने इसकी छपाई बंद कर दी है लेकिन इस मूल्यवर्ग के 85,000 मिलियन नोट अभी भी बाजार में वैध हैं। इस नोट के आगे के हिस्से में महात्मा गांधी की तस्वीर है, जबकि पिछले हिस्से पर खेत जोतते किसान की तस्वीर है. यह नोट भारत की अर्थव्यवस्था में कृषि के महत्व को दर्शाता है।

A P J Abdul Kalam Quotes in Hindi

1 रुपये से लेकर 10 रुपये तक के नोट एक हाथ से दूसरे हाथ में जल्दी चले जाते हैं, इसी वजह से ये जल्दी खराब हो जाते हैं। इस समस्या को हल करने के लिए सरकार ने इस मूल्य के सिक्कों को ढालने का फैसला किया। 10 रुपये के एक नोट की छपाई में करीब 96 पैसे का खर्च आता है। दस रुपये के पुराने नोट के आगे वाले हिस्से में महात्मा गांधी की तस्वीर, अशोक का प्रतीक चिह्न है, जबकि नोट के पिछले हिस्से में गैंडे, हाथी और बाघ की तस्वीरें हैं। नई श्रृंखला के पिछले हिस्से में कोणार्क सूर्य मंदिर के पहिये और स्वच्छ भारत के लोगो की छवियां हैं।

क्या आपकी डिग्री आपके सपने पुरे नहीं करने दे रही ? Is your degree not allowing you to fulfill your dreams?

20 रुपये के नोट की छपाई की कीमत 10 रुपये के नोट के बराबर है। इस मूल्यवर्ग के 5000 करोड़ के नोट बाजार में प्रचलन में हैं। इस नोट के आगे के हिस्से में महात्मा गांधी (वाटर मार्क), अशोक प्रतीक की तस्वीर है, जबकि नोट के पिछले हिस्से में ताड़ के पेड़ों की तस्वीर है जो पोर्ट ब्लेयर में “माउंट हैरियट लाइट हाउस” का दृश्य दिखाती है।

50 रुपये के एक नोट को छापने में करीब 50 रुपये का खर्च आता है। इस मूल्यवर्ग के 1.81 और 4000 मिलियन के नोट वर्तमान में प्रचलन में हैं। इस नोट के सामने की तरफ महात्मा गांधी की तस्वीर, अशोक का प्रतीक और भारतीय संसद का डिजाइन दिखाया गया है, जो भारत के मजबूत लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि नए नोट के पीछे की तरफ ‘स्वच्छ भारत’ का लोगो और हम्पी (कर्नाटक) का रथ दिखाया गया है। . हम्पी भारत में एक विश्व धरोहर स्थल है।

How to Gain Weight:- वजन कैसे बढ़ाएं

100 Rupee इस नोट को छापने की लागत 1.20 रुपये है और इस मूल्य के 16,000 मिलियन नोट बाजार में प्रचलन में हैं। इस नोट के सामने की तरफ महात्मा गांधी की तस्वीर है, अशोक का प्रतीक है, जबकि इस नोट के पिछले हिस्से में भारत के सबसे ऊंचे पर्वत “माउंट कंचनजंगा” की छवि है।

200 Rupee भारत में पहली बार इस मूल्यवर्ग के नोट छापे गए हैं। 200 रुपये के एक नोट की छपाई में करीब 2.93 रुपये का खर्च आता है। इस नोट के आगे वाले हिस्से में महात्मा गांधी की तस्वीर है, अशोक का प्रतीक है जबकि नोट के पिछले हिस्से में प्रसिद्ध सांची स्तूप की तस्वीर है।

Interesting Facts About Space:-अंतरिक्ष के कुछ दिलचस्प तथ्य

500 Rupee 2016 में विमुद्रीकरण के बाद; 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों की जगह रुपये के नए नोट ले लिए गए हैं। 500 और 2000। एक नए पांच सौ के करेंसी नोट की छपाई की लागत लगभग रु। 2.94. इस नोट के पिछले हिस्से में “स्वच्छ भारत” और दिल्ली के “लाल किले” की तस्वीर है।

2000Rupee यह नोट भारत में पहली बार छापा गया है। उन्नत सुरक्षा विशेषताओं के कारण इस नोट की छपाई की लागत लगभग 3.54 रुपये है। इस नोट के सामने वाले हिस्से में महात्मा गांधी की तस्वीर है जबकि इस नोट के पिछले हिस्से में मंगलयान की तस्वीर है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा 5 नवंबर, 2013 को लॉन्च किया गया। यह नोट भारत की वैज्ञानिक समृद्धि को दर्शाता है।

5. फटे नोट बेकार नहीं हैं

Torn notes are not useless

अगर आपके पास 51 फीसदी से ज्यादा फटे नोट हैं तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप बैंक में जाकर इसे बदल सकते हैं। आरबीआई की गाइडलाइंस के मुताबिक किसी भी तरह के फटे, पुराने और गंदे नोट को किसी भी बैंक ब्रांच में जाकर बदला जा सकता है। आप बैंक में जाकर इसे बदल सकते हैं।

6. भारतीय नोट 17 भाषाओं में लिखा गया है

Indian note is written in 17 languages

Indian Currency में हिंदी और अंग्रेजी के अलावा 15 भाषाओं का इस्तेमाल किया गया है। 10, 20, 50 जैसा कोई भी नोट हिंदी और अंग्रेजी के साथ-साथ असमिया, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मलयालम, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, तमिल, तेलुगु और उर्दू में लिखा जाता है। . नोट के आगे के हिस्से में हिंदी और अंग्रेजी का प्रयोग किया गया है। नोट के पिछले हिस्से पर बाकी भाषाएं लिखी हुई हैं।

7. इन वर्णमाला संख्याओं का उपयोग मुद्रा पर नहीं किया जाता है।

These alphabet numbers are not used on currency

सुरक्षा कारणों से करेंसी नोटों में 26 में से 20 अक्षर ही इस्तेमाल होते हैं। दरअसल, Indian Currency के उपसर्ग में I (I), J (J), O (O), X (X), Y (Y) और Z (Z) का प्रयोग नहीं किया जाता है। चूंकि आई न्यूमेरिक एक के साथ, ओ, जीरो के साथ और जे आदि कन्फ्यूज करते हैं। इसलिए प्रीफिक्स में इन्हें शामिल नहीं किया जाता है।

8. कौन से कौन से देशों में Indian Currency का मूल्य अधिक है ?

In which countries is the value of rupee higher?

Vietnam

One Rupee = 354 Vietnamese Currency (Dong)

Indonesia

One Rupee = 208 Indonesian Currency (Rupiah)

Paraguay

One Rupee = 87 Paraguayan Currency (Guarani)

Cambodia

One Rupee = 64 Cambodian Currency (Ryal)

Mongolia

One Rupee = 38 Mongolian Currency (Tugrik)

Costa Rica

One Rupee = 9 Costa Rican Currency (Cologne)

Hungary

One Rupee = 4 Hungarian currency (Forint)

Iceland

One Rupee = 2 Icelandic Currency (Krona)

Sri Lanka

One Rupee = 2 Sri Lankan Currency (Rupee)

Pakistan

One Rupee = 2 Pakistani Currency (Rupee)

इन देशों के अलावा बेलारूस, जिम्बाब्वे, दक्षिण कोरिया, जापान, नेपाल आदि कई अन्य देश हैं जहां भारतीय मुद्रा का मूल्य वहां की मुद्रा से अधिक है।

Note: These figures are volatile and may increase or decrease.

 

 

 

 

Spread the love

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *