Jaipur Me Pooja Ne Ki Anokhi Shadi: जयपुर के गोविंदगढ़ के पास नरसिंहपुरा गांव में हुई एक अनोखी शादी, पूजा नामक लड़की ने की ठाकुर जी से शादी!

By | December 16, 2022
Jaipur Me Pooja Ne Ki Anokhi Shadi
0
(0)

Jaipur Me Pooja Ne Ki Anokhi Shadi: छोटी काशी के नाम से विख्यात गोविंद की नगरी जयपुर के गोविंदगढ़ के पास नरसिंहपुरा गांव में हुई एक अनोखी शादी, पूजा नामक लड़की ने की ठाकुर जी से शादी! जयपुर के गोविंदगढ़ के पास नरसिंहपुरा गांव में 8 दिसंबर को एक अनोखी शादी हुई। 30 साल की पूजा सिंह ने गांव के मंदिर में विराजमान भगवान ठाकुरजी से शादी की। पूजा सिंह ने परिवार के सदस्यों और शुभचिंतकों की उपस्थिति में औपचारिक विवाह समारोह में ठाकुरजी की मूर्ति के साथ विवाह की सभी रस्में पूरी कीं।

अब जानिए इस अनोखी शादी की पूरी कहानी।

बचपन की कई कहानियों में से एक मीरा बाई की है, जिसमें जब मीराबाई ने भगवान कृष्ण को अपने पति के रूप में स्वीकार किया, तो वे जीवन भर उनके साथ रहीं। ऐसी ही एक घटना जयपुर जिले के गोविंदगढ़ कस्बे के नरसिंहपुरा गांव की पूजा सिंह के साथ हुई. इसी तरह उन्होंने अपना जीवन ठाकुरजी को समर्पित किया है।
पूजा सिंह ने परिवार के सदस्यों और शुभचिंतकों के बीच एक विवाह समारोह में ठाकुरजी की मूर्ति के साथ विवाह की सभी रस्में पूरी कीं और मीरा की तर्ज पर खुद को आजीवन ठाकुरजी को समर्पित कर दिया। इस शादी समारोह में हल्दी की रस्म अदा की गई और मेहंदी भी रचाई गई, विनायक पूजा हुई और 7 फेरे लेकर पूजा ठाकुर जी के साथ चली गई।

संक्षिप्त में जाने क्या है मामला Jaipur Me Hui Anokhi Shadi

पूजा सिंह ने राजस्थान के जयपुर में गोविंदगढ़ में भगवान कृष्ण ‘ठाकुरजी’ से शादी की। हालांकि, पिता शादी में शामिल नहीं हुए और सभी रस्में उनकी मां ने निभाईं। पूजा ने अपने हाथों में ‘ठाकुरजी’ के नाम की मेहंदी रचाई और ‘ठाकुरजी’ को सिंहासन सहित हाथ में लेकर अग्नि के सात फेरे लिए।

See also  What is Internet in Hindi 2021- यह कैसे काम करता है

पूजा सिंह ने बचपन से ही तय कर लिया था कि जिस तरह शादी के बाद अक्सर लोग झगड़ते हैं, वैसे शादी नहीं करूंगी। 25 साल पूरे होने के बाद पूजा के लिए कई रिश्ते आए और 30 साल की होने तक कई बार लोगों ने उन्हें रिश्तों के लिए अप्रोच किया। लेकिन पूजा इसके लिए राजी नहीं हुई। परिजन गिड़गिड़ाते रहे और पूजा शादी से इंकार करती रही। अंत में तुलसी विवाह के बारे में जानकर एक दिन पूजा मंदिर गई और पंडित जी से अपने मन की बात की तो हिंदू विवाह के विधि-विधान के अनुसार उसे पता चला कि वह ठाकुरजी से भी विवाह कर सकती है।

पूजास सिंह ने अपने इंस्टाग्राम से शेयर किया बयान

Pooja Singh Shekhawat
Pooja Singh Shekhawat
Pooja Singh Shekhawat

पूजा नरसिंहपुरा की रहने वाली हैं।

इसके बाद पूजा ने अपने पिता और परिवार के अन्य सदस्यों को शादी के लिए मनाने की कोशिश की। दूसरी ओर, पूजा के रिश्तेदारों ने भी उसे सामाजिक रीति-रिवाजों के अनुसार अपने लिए योग्य वर चुनने के लिए मनाने की कोशिश की। लेकिन मंशा जाहिर करने वाली पूजा ने ठाकुरजी को पति-देवता के रूप में स्वीकार कर लिया था। इस शादी में पूजा की मां ने उनका साथ दिया, लेकिन पिता ने साथ नहीं दिया।

8 दिसंबर को शादी की रस्में निभाई गईं।

पूजा सिंह की मां ने बताया कि जब उनकी बेटी ने इस शादी के लिए अपने मन की बात कही तो उन्हें इससे कोई आपत्ति नहीं थी। उन्हें लगा कि विवाह न करने से तो अच्छा है कि ठाकुरजी से संबंध बना लिया जाए। इसी बात को ध्यान में रखते हुए पूजा की मां ने हर रस्म पूरे उत्साह के साथ निभाई और पारंपरिक रीति-रिवाजों के मुताबिक शुभ कार्य पूरे किए गए। प्रसाद के रूप में ठाकुरजी को उचित पोशाक और सिंहासन भेंट किया गया। महिला संगीत का कार्यक्रम हुआ, मेहंदी की रस्म हुई, हल्दी भी लगी और विवाह की तिथि पर मंत्रोच्चारण के बीच विवाह संपन्न हुआ।

See also  Interesting Facts About Taj Mahal: शाहजहां ने नहीं कटवाए थे मजदूरों के हाथ, जानिए क्‍या है ताज महल की हकीकत और 10 रोचक जानकारियां।

करीब 300 मेहमान शादी के गवाह बने

शादी में करीबी रिश्तेदारों के अलावा पूजा के करीबी दोस्त भी पहुंचे, करीब 300 मेहमान शादी के गवाह बने और कुल खर्च 2 से 2.5 लाख रुपये के बीच रहा। 30 साल की पूजा सिंह पॉलिटिकल साइंस से एमए हैं। पिता प्रेम सिंह बीएसएफ से सेवानिवृत्त हैं और MP में सुरक्षा एजेंसी चलाते हैं। मां रतन कंवर गृहिणी हैं। तीन छोटे भाई हैं, अंशुमन सिंह, युवराज और शिवराज। तीनों कॉलेज और स्कूल में पढ़ रहे हैं। ठाकुरजी से विवाह करने का यह उनका अपना निर्णय था। इस पर शुरू में समाज, रिश्तेदार और परिवार के लोग राजी नहीं हुए, लेकिन फिर बेटी की इच्छा का सम्मान करते हुए मां जरूर मान गई।

अड़चनों पर कानून भारी:

पूजा की शादी कराने वाले पंडित आचार्य राकेश शास्त्री ने बताया कि ग्रामीण पृष्ठभूमि के माहौल में इस शादी को कराने में उनके सामने कई चुनौतियां आईं, लेकिन उन्होंने इस शादी का कार्यक्रम हिंदू रीति-रिवाज से कराया और पूर्ण हुआ। इसलिए उन्हें इस संबंध में किसी प्रकार की परेशानी का अनुभव नहीं हुआ। शास्त्री ने बताया कि भगवान विष्णु शालिग्राम जी के साथ कन्या का विवाह शास्त्रों के अनुसार होता है। जिस तरह वृंदा तुलसी ने भगवान विष्णु का आशीर्वाद पाने के लिए ठाकुरजी से विवाह किया था, ठीक वैसा ही है। ऐसी शादियां पहले भी हो चुकी हैं। कर्मठगुरु पुस्तक के पृष्ठ संख्या 75 पर इसका विवरण दिया गया है। कन्या का विवाह भगवान विष्णु से हो सकता है। तुलसी विवाह भी इसी प्रकार का एक पर्यायवाची है।

ठाकुरजी की पूजा ने बदली जिंदगी:

दो साल से मैं शादी करना चाहती थी, लेकिन अब फाइनल हो गया है। मैंने भगवान को अपना पति बनाया है। लोग कहते थे कि लड़की का विवाह होना सौभाग्य की बात है। परमात्मा अमर है, इसलिए मैं भी सदा के लिए सुखी हो गयी हूं। शादी के बाद पूजा अपने घर पर रहती है और ठाकुरजी मंदिर लौट आते हैं। पूजा सुबह उनके लिए भोग बनाती है और उन्हें ले जाती है। पूजा ने उसके लिए ड्रेस बनवाई है और वह शाम को दर्शन के लिए भी जाती है। शादी के बाद पूजा ने घर में अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में भी बदलाव किए हैं। अब उसने अपने कमरे में ठाकुरजी का एक छोटा सा मंदिर बना लिया है, जिसके सामने वह सोती है और सुबह-शाम ठाकुरजी को भोग लगाती है। कभी-कभी पूजा अपने हाथों से ठाकुरजी के लिए वस्त्र भी तैयार करती है। उन्होंने प्रतिदिन शाम को ठाकुरजी के मंदिर जाना अपनी दिनचर्या में शामिल कर लिया है।

See also  Sapne Kyu Aate Hai:- सपने कब, क्यों और कैसे आते हैं

पति के नहीं आने पर मां ने घेरा बनाकर बहू की शादी करा दी। इसके बाद विदाई दी गई। कन्यादान और जौहरी के लिए परिवार की ओर से 11000 रुपए दिए गए। ठाकुरजी को एक सिंहासन और एक पोशाक दी गई।

Jaipur Me Hui Anokhi Shadi

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?

इसे रेट करने के लिए स्टार पर क्लिक करें!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

अब तक कोई वोट नहीं! इस पोस्ट को रेट करने वाले पहले व्यक्ति बनें।

जैसा कि आपको यह पोस्ट उपयोगी लगी...

Follow us on social media!

हमें खेद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी नहीं थी!

आइए इस पोस्ट को सुधारें!

हमें बताएं कि हम इस पोस्ट को कैसे सुधार सकते हैं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *